मुघल और वानर सेना

इन लोगो ने वो जगह छोड़ा जहाँ कभी मुघल गए ही नहीं। मुघल इन्हे पहचानते थे। इसलिए नहीं गए। मुघल उस जगह भी नहीं गए जहाँ ये लोग जा के बस गए। नहीं तो मुघल हिमालय नाँघ की ही तो आए थे, हिमालय तक क्यों नहीं जाते? मुघल इन्हे पहचानते थे। और ये लोग उस रास्ते से गए जहाँ मुघल साम्राज्य था। मुघल ने देखा अनदेखा कर दिया। टोका तक नहीं। मुँह उधर घुमा दिया। मुघल इन्हे पहचानते थे लेकिन उस समय के भारतीय ने इनसे अलायन्स बनाने की जरुरत महसुस नहीं किया।  तो बाद में इन्होने ब्रिटिश की मदत नहीं की। इनको भारतीय को ये दिखाना था कि देखो मुघल को हम कैसे ख़त्म कर देते हैं। ये तो बाएँ हाथ का खेल है। ४०० साल पहले हमें याद क्यों नहीं किया?





Comments

Popular posts from this blog

फोरम र राजपा बीच एकीकरण: किन र कसरी?

नेपालभित्र समानता को संभावना देखिएन, मधेस अलग देश बन्छ अब

फोरम, राजपा र स्वराजी को एकीकरण मैं छ मधेसको उद्धार