In The News (46)

संयुक्त लोकतान्त्रिक मधेशी मोर्चा की बैठक खत्म, वार्ता की कोई संभावना नहीं, आन्दोलन और सशक्त बनाने का फैसला

Posted by Upendra Mahato on Thursday, September 10, 2015


'सिके राउत कहाँ है ? सडक पर क्यों नहीं आते ?' पूछने वालों को चुनौती
**************************************************************************

अगर आप में इतना हिम्मत है तो १ लाख की संख्या में जनता 'स्वतन्त्र मधेश' का झंडा लेकर और 'स्वतन्त्र मधेश' की नारा गुंजाते हुए सडक पर उतर कर दिखाइए, तब अगर सिके राउत आपको सडक पर छाती खोलकर नेतृत्व करते हुए दिखाई नहीं देता है, तब बताइगा।

अभी सिके राउत क्या करने उतरेंगे सडक पर ? भ्रष्ट मधेशी नेताओं के द्वारा प्रयोग होने के लिए? जनता को मरवाकर भ्रष्ट मधेशी नेताओं को फिर से सांसद और मंत्री बनवाने के लिए और जनता को भ्रम में रखने के लिए ? उसी सड़ी-गली पुरानी मांग के लिए, जो हम जानते हैं कि मधेशियों को कोई अधिकार दिला नहीं सकता ?

जब सिके राउत पिछले ४ महिनों से नजरबंद में है तो कितने जनता गए उन्हें छूडाने के लिए ? जब सिके राउत के कार्यक्रमों को विथोला गया, उसे बोलने और टिवी में अन्तर्वार्ता देने तक नहीं दिया गया तब मधेशी नेता और सांसद कहाँ थे और क्या किए ? क्या एक आम मधेशी की तरह उन्हें बोलने देने के लिए भी मधेशी नेताओं को आवाज उठानी नहीं चाहिए थी ? जब नेपाली पुलिस ने सिके राउत के पैर तोड दिया, जब झापा में उग्र दमन करके सर फोड दिया, जब दर्जनों स्वराजियों को पकड़कर मुद्दा लगाया गया, हिरासत में रखा गया, तब ये आज चुनौती देनेवाले महानुभाव सब कहाँ थे? तब कितनी जगहों पर उन्होंने विरोध जुलुस निकाला ? तब वे सब चुस्की ले रहे थे। स्वतंत्र मधेश का नारा लगाने के लिए खुद डरते हैं, स्वतन्त्र मधेश का झंडा पकडने की हिम्मत नहीं, तब अनेकों बहाना निकालते है, और अभी पूछते हैं स्वराजी कहाँ है ?

सवाल उठाने वाले महानुभावों, स्वतन्त्र मधेश के झंडा का सैम्पल यहीं है, पहले १ लाख बनाकर फहराएँ, १ लाख की संख्या में जमा होकर 'स्वतन्त्र मधेश' का नारा दें, पुराने भ्रष्ट नेतृत्व और गद्दारों को तिरस्कार करें, और तब पूछे कि 'सिके राउत कहाँ है ?'

'सिके राउत कहाँ है ? सडक पर क्यों नहीं आते ?' पूछने वालों को चुनौती...

Posted by Dr. CK Raut on Wednesday, September 9, 2015


सर्वोच्च अदालतका न्यायाधीश गिरीश चन्द्र लालले मुद्दा फैसला गर्दा मधेशी न्यायाधीश भएर फैसला गरेको भनेर आलोचना गर्ने तर अ...

Posted by Subhash Chandra Shah on Thursday, September 10, 2015


Brave son of brave madheshi soldier!

Posted by Subhash Chandra Shah on Wednesday, September 9, 2015


संविधान उसका होता है, जिसके पास सेना होती है। जिसकी सेना नहीं, उसका क्या संविधान? सेना लगाकर कभी भी संविधानको निलम्बन ...

Posted by Deepak Kumar Sah on Wednesday, September 9, 2015






Posted by Dilip Dharewa on Wednesday, September 9, 2015








लहानमा गोलि चल्यो ,१ दर्जन भन्दा बढी घाइतेफिरोज शेख , लहान भाद्र २३ -सिमांकनको विरोधमा विगत २५ दिनदेखि सिरहाको लहानमा शान्तिपुर्ण तरिकाले हुदै आएको आन्दोलन आज एकाएक आक्रमक बनेको छ । मधेश आन्दोलनको २६ सौ दिन आज लहानमा प्रहरी र आन्दोलनकरी बीच झडप हुदा गोलि चलेको छ I आन्दोलनकारीले बाटो अवरोध गर्न खुख काट्न खोज्दा प्रहरी र आन्दोलनकारी बीच झडप भएको हो I करिब ३ दर्जन भन्दा बढी फायर भएको छ भने आन्दोलनकारीलाई तितरवितर गर्न करिब २ दर्जन आशुग्यास प्रहार गरिएको छ I करिब ५ बजे देखि सुरु भएको झडप ८ बजे सम्म चलेको थियो I झडपमा करिब १ दर्जन आन्दोलनकारी गोलीको छर्रा लागि घाइते भएका छन् i प्रहरीको छर्रा लागि घाइतेहुने लहान १ निवासी बद्री राम लाई तिघ्रामा गोलि लागेको छ भने रमेश यादव लाई घुडामा गोलीलागेको छ i त्यस्तै अन्य घाइतेहरुमा मनज्य यादव , परमानन्द यादव , दिपेन्द्र यादव ,सिताराम यादव ,मनोज यादव , बिनोद सहनी , ललिता दास , ६० वर्षीय दुनिलाल महतो लगायत करिब १ दर्जन भन्दा बढी घाइते भएका हुन् i घाइतेहरुको उपचार लहान अस्पताल , आँखा अस्पताल र लवकुश अस्पतालमा भैरहेको छ i गोलीको छर्रा लागि घाइते भएका बद्री राम यादव को अवस्था चिन्ताजनक रहेको तमलोपाका सिरहा जिल्ला सचिव राकेश झाले जानकारी दिएका छन् iइलाका प्रहरी कार्यालय लहानका डिएसपी उमाप्रसाद चतुर्वेदीले दिएको जानकारी अनुसार हामीमाथि डुंगामुढा ,गुलेली संगै पेट्रोल बमले हमला गरेपछि बाध्य भई गोली चलाएको हो i आन्दोलनकारीको डुंगामुढा लागि ८ जना प्रहरी घाइते भएको प्रहरीले जनाएको छ । झडपकै क्रममा प्रदर्शनकारीले ट्राफिक प्रहरी कार्यालय अगाडि रहेको प्रहरी बिट जलाएका छन् । यसैबीच आन्दोलनकरीले आफ्नो माँग उपर सरकारले वेवास्ता गरेको भन्दै आन्दोलनको क्रममा बुधवार पूर्व – पश्चिम लोकमार्ग अन्तरगत सिरहाको गोलबजारदेखि पूर्व कसहा सम्म विभिन्न ठाउँमा ठुलो ठुलो रुख ढालेर सडक अवरोध गरेका छन् ।यता जिल्ला प्रशासन कार्यालय सिरहाले लोकमार्गलाई लक्षित गरी निषेधित क्षेत्र घोषणा गरेका छन् । प्रशासनले कमला पुलदेखि बलान खोलको पुलसम्म तथा सहायक मार्गमा पर्ने नयाँ चोहर्वादेखि सिरहा सदरमुकाम बजारको दक्षिण लचकासम्म दायाँ बायाँ ५ सय मिटर क्षेत्रलाई निषेधित क्षेत्र घोषण गरेको छ ।जिल्ला प्रशासन कार्यालय सिरहाले बुधबार बेलुका सार्वजनिक सुचना जारी गरि जिल्लाको शान्ति सुरक्षालाई व्यवस्थित बनाई यातायात सुचारु गर्नका लागि स्थानीय प्रशासन ऐन २०२८ को दफा ६ को उप्ताफा ३ क र ख बमोजिम सो क्षेत्रलाई बुधवार राती ११ बजेदेखि बिहिवार विहान ५ बजेसम्म निषेधित क्षेत्र घोषण गरेको जनाएको छ ।

Posted by Firoj Shekh on Wednesday, September 9, 2015

Comments